पथरी कैसे होती है पेट में कारण, इलाज : Pathari Kaise Hota Hai

पथरी कैसे होती है पेट में कारण, इलाज : Pathari Kaise Hota Hai

पथरी कैसे होती है पेट में कारण, इलाज : Pathari Kaise Hota Hai – गुर्दे की पथरी, जिसे “पथरी” के रूप में जाना जाता है, कठोर खनिज जमा होते हैं जो मूत्र पथ, लार ग्रंथियों, अग्न्याशय, पित्ताशय, गुर्दे और टॉन्सिल सहित शरीर के विभिन्न हिस्सों में बन सकते हैं। ये पत्थर आकार और स्थान में भिन्न हो सकते हैं, और वे हल्की असुविधा से लेकर गंभीर दर्द और जटिलताओं तक कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इस लेख में, हम जानेंगे कि गुर्दे की पथरी क्या है, उनके कारण, लक्षण, उपचार के विकल्प और निवारक उपाय।

पथरी कैसे होती है पेट में कारण, इलाज : Pathari Kaise Hota Hai
पथरी कैसे होती है पेट में कारण, इलाज : Pathari Kaise Hota Hai

पथरी क्या हैं | Pathari Kya Hai?

गुर्दे की पथरी छोटे, ठोस खनिज भंडार होते हैं जो गुर्दे या मूत्र पथ के अन्य भागों में विकसित हो सकते हैं। ये पथरी अक्सर कैल्शियम, ऑक्सालेट, यूरिक एसिड या मूत्र में पाए जाने वाले अन्य पदार्थों से बनी होती हैं। गुर्दे की पथरी का आकार रेत के कण से लेकर कंकड़ तक भिन्न हो सकता है, और जब वे मूत्र के प्रवाह में बाधा डालते हैं तो बहुत दर्द और परेशानी पैदा कर सकते हैं।

पथरी के कारण | Pathari Ke Karan:

गुर्दे की पथरी तब बन सकती है जब आपके मूत्र में कुछ पदार्थ अत्यधिक केंद्रित और क्रिस्टलीकृत हो जाते हैं। गुर्दे की पथरी के सबसे आम प्रकार हैं:

  • कैल्शियम की पथरी: ये गुर्दे की पथरी का सबसे आम प्रकार है और अक्सर कैल्शियम ऑक्सालेट से बनी होती है। वे तब बन सकते हैं जब मूत्र में कैल्शियम और ऑक्सालेट की अधिकता हो।
  • यूरिक एसिड स्टोन: मूत्र में बहुत अधिक यूरिक एसिड होने पर यूरिक एसिड स्टोन विकसित हो सकता है। गाउट या कुछ आनुवंशिक कारकों जैसी स्थितियों वाले लोगों में इस प्रकार की पथरी होने का खतरा अधिक होता है।
  • स्ट्रुवाइट स्टोन: स्ट्रुवाइट स्टोन मूत्र पथ के संक्रमण के परिणामस्वरूप हो सकता है। वे तेजी से बढ़ सकते हैं और काफी बड़े हो सकते हैं।
  • सिस्टीन स्टोन्स: सिस्टीन स्टोन दुर्लभ होते हैं और एक वंशानुगत विकार के परिणामस्वरूप होते हैं जिसके कारण गुर्दे कुछ अमीनो एसिड की अत्यधिक मात्रा को उत्सर्जित करते हैं।

पथरी के लक्षण | Pathari Ke Lakshan:

गुर्दे की पथरी के लक्षण पथरी के आकार, स्थान और क्या यह मूत्र पथ में रुकावट पैदा कर रहा है, के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • गंभीर दर्द: गुर्दे की पथरी का सबसे आम लक्षण पीठ या बाजू में गंभीर, ऐंठन जैसा दर्द है, जो अक्सर पेट के निचले हिस्से और कमर तक फैलता है। यह दर्द लहरों में आ सकता है और कष्टदायी हो सकता है।
  • रक्तमेह: गुर्दे की पथरी के कारण मूत्र में रक्त आ सकता है, जिससे उसका रंग गुलाबी, लाल या भूरा हो सकता है।
  • बार-बार पेशाब आना: अधिक बार या कम मात्रा में पेशाब करने की आवश्यकता गुर्दे की पथरी का संकेत हो सकता है।
  • पेशाब करने की तीव्र इच्छा: पेशाब करने की तीव्र, लगातार इच्छा होना एक और सामान्य लक्षण है।
  • पेशाब करने में दर्द: पेशाब करते समय असुविधा या दर्द का अनुभव किया जा सकता है।
  • बादलयुक्त या दुर्गंधयुक्त मूत्र: गुर्दे की पथरी के कारण कभी-कभी मूत्र बादलयुक्त या दुर्गंधयुक्त दिखाई देता है।
  • मतली और उल्टी: गुर्दे की पथरी वाले कुछ लोगों को दर्द के कारण मतली और उल्टी भी महसूस हो सकती है।
  • बुखार और ठंड लगना: संबंधित संक्रमण के साथ गुर्दे की पथरी के मामलों में, रोगियों को बुखार और ठंड का अनुभव हो सकता है।

पथरी से निदान | Pathari Se Nidan:

यदि आप गुर्दे की पथरी के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो निदान के लिए किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से मिलना आवश्यक है। वे कई नैदानिक परीक्षण कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • इमेजिंग परीक्षण: एक्स-रे, सीटी स्कैन और अल्ट्रासाउंड गुर्दे की पथरी के स्थान और आकार की पहचान करने में मदद कर सकते हैं।
  • मूत्र विश्लेषण: मूत्र के नमूने का विश्लेषण करने से रक्त या क्रिस्टल की उपस्थिति का पता चल सकता है, जो गुर्दे की पथरी की उपस्थिति का संकेत दे सकता है।
  • रक्त परीक्षण: रक्त परीक्षण उन पदार्थों के उच्च स्तर का पता लगाने में मदद कर सकता है जो पथरी बनने का कारण बन सकते हैं, जैसे कैल्शियम या यूरिक एसिड।

पथरी का उपचार | Pathari Ka Upchar:

गुर्दे की पथरी का उपचार पथरी के आकार, स्थान और लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। यहां सामान्य उपचार विकल्प दिए गए हैं:

  • सतर्क प्रतीक्षा: छोटे गुर्दे की पथरी, जिसके कोई लक्षण नहीं होते, अक्सर मूत्र के माध्यम से अपने आप निकल सकती हैं। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता बहुत सारे तरल पदार्थ पीने और पथरी के निकलने की प्रतीक्षा करने की सलाह दे सकता है।
  • दवाएं: पथरी के प्रकार के आधार पर, आपका डॉक्टर पथरी को घुलने में मदद करने या दर्द और परेशानी को प्रबंधित करने के लिए दवाएं लिख सकता है।
  • एक्स्ट्राकोर्पोरियल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी (ईएसडब्ल्यूएल): ईएसडब्ल्यूएल एक गैर-आक्रामक प्रक्रिया है जो गुर्दे की पथरी को छोटे टुकड़ों में तोड़ने के लिए शॉक तरंगों का उपयोग करती है, जिससे मूत्र पथ से गुजरना आसान हो जाता है।
  • यूरेटेरोस्कोपी: पथरी तक पहुंचने के लिए मूत्रमार्ग और मूत्राशय के माध्यम से एक कैमरे के साथ एक पतली ट्यूब डाली जाती है। फिर पत्थर को हटाया जा सकता है या छोटे टुकड़ों में तोड़ा जा सकता है।
  • परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी (पीसीएनएल): यह एक सर्जिकल प्रक्रिया है जहां पीठ में एक छोटा चीरा लगाया जाता है, और गुर्दे की पथरी को हटाने या तोड़ने के लिए एक स्कोप का उपयोग किया जाता है।
  • सर्जरी: दुर्लभ मामलों में, जब अन्य तरीके प्रभावी नहीं होते हैं, तो बड़े या जटिल गुर्दे की पथरी को हटाने के लिए ओपन सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

पथरी की रोकथाम | Pathari Ki Roktham:

यदि आपको गुर्दे की पथरी पहले हो चुकी है या आप जोखिम में हैं तो इसे रोकना महत्वपूर्ण है। गुर्दे की पथरी के विकास के जोखिम को कम करने के लिए आप यहां कुछ कदम उठा सकते हैं:

  • हाइड्रेटेड रहें: किडनी की पथरी को रोकने के लिए खूब पानी पीना सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। यह मूत्र को पतला करने और उन पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है जो पथरी बनने का कारण बन सकते हैं।
  • आहार परिवर्तन: आपके गुर्दे की पथरी के प्रकार के आधार पर, आपका डॉक्टर पुनरावृत्ति के जोखिम को कम करने के लिए आहार परिवर्तन की सिफारिश कर सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको कैल्शियम ऑक्सालेट पथरी है, तो आपको उच्च ऑक्सालेट खाद्य पदार्थों को सीमित करने की सलाह दी जा सकती है।
  • नमक सीमित करें: अधिक नमक के सेवन से गुर्दे की पथरी का खतरा बढ़ सकता है। नमक का सेवन कम करना फायदेमंद हो सकता है।
  • कैल्शियम सेवन की निगरानी करें: जबकि आपके आहार में बहुत अधिक कैल्शियम पथरी के निर्माण में योगदान कर सकता है, यह आवश्यक है कि कैल्शियम को पूरी तरह से न काटें। आपके लिए सही मात्रा निर्धारित करने के लिए किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।
  • मध्यम प्रोटीन का सेवन: पशु प्रोटीन से भरपूर आहार से गुर्दे की पथरी का खतरा बढ़ सकता है। अपने प्रोटीन सेवन को नियंत्रित करने पर विचार करें।
  • दवाएँ: कुछ मामलों में, आपका डॉक्टर गुर्दे की पथरी को बनने से रोकने के लिए दवाएँ लिख सकता है।
  • नियमित अनुवर्ती कार्रवाई: यदि आपको अतीत में गुर्दे की पथरी हुई है, तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ नियमित अनुवर्ती कार्रवाई से आपकी स्थिति की निगरानी करने और आवश्यकतानुसार निवारक उपायों को समायोजित करने में मदद मिल सकती है।

Important Note:

गुर्दे की पथरी, या “पथरी”, महत्वपूर्ण असुविधा और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकती है। यदि आपको संदेह है कि आपको गुर्दे की पथरी है या आप गंभीर पेट दर्द, मतली या मूत्र के रंग में बदलाव का अनुभव कर रहे हैं, तो तत्काल चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण है। यदि उपचार न किया जाए तो गुर्दे की पथरी जटिलताओं का कारण बन सकती है।

याद रखें, यह जानकारी सामान्य मार्गदर्शन प्रदान करती है और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह का स्थान नहीं लेना चाहिए। उचित निदान और वैयक्तिकृत उपचार योजना के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श लें। आपका स्वास्थ्य और खुशहाली सर्वोपरि है; यदि आप गुर्दे की पथरी या किसी भी संबंधित लक्षण के बारे में चिंतित हैं तो चिकित्सा सहायता लेने में संकोच न करें।

Conclusion

निष्कर्षतः, गुर्दे की पथरी दर्दनाक और विघटनकारी हो सकती है, लेकिन सही निदान और उपचार के साथ, उन्हें प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया जा सकता है। उनके गठन को रोकने के लिए कदम उठाना भी आवश्यक है, खासकर यदि आपको गुर्दे की पथरी होने का खतरा है। याद रखें कि हाइड्रेटेड रहने और आहार में समायोजन करने से गुर्दे की पथरी का खतरा काफी कम हो सकता है। यदि आप लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो उचित मूल्यांकन और उपचार के लिए तुरंत चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण है।

Also Read:

FAQ:

पेट में पथरी होने का मुख्य कारण क्या है?

गुर्दे की पथरी, जिसे हिंदी में “पथरी” भी कहा जाता है, कुछ बीमारियों, दवाओं और खराब आहार संबंधी आदतों जैसे विभिन्न कारकों के कारण बनती है। इन कारकों से गुर्दे की पथरी बनने का खतरा बढ़ सकता है। कुछ सामान्य कारकों में आपके मूत्र में बहुत अधिक कैल्शियम या ऑक्सालेट होना शामिल है। आपका आहार भी एक भूमिका निभा सकता है, जैसे उच्च ऑक्सालेट सामग्री, बहुत अधिक पशु प्रोटीन, या अत्यधिक सोडियम वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना।

क्या खाने से पथरी होती है?

पालक, टमाटर, तारो और रतालू जैसे ऑक्सालिक एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करने से कैल्शियम ऑक्सालेट गुर्दे की पथरी विकसित होने की संभावना बढ़ सकती है। ऐसे खाद्य पदार्थों से बचना महत्वपूर्ण है जो आपके मूत्र में ऑक्सालिक एसिड के स्तर को बढ़ा सकते हैं, क्योंकि यह गुर्दे की पथरी के निर्माण में योगदान कर सकता है।

पथरी गलाने का दवा कौन सा है?

गुर्दे की पथरी को घोलने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं को पथरी घोलने वाले अवरोधक या H2DC अवरोधक कहा जाता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि दो विशिष्ट दवाएं, वोरिनोस्टैट और ट्राइकोस्टैटिन ए, मूत्र में कैल्शियम और मैग्नीशियम के स्तर को कम कर सकती हैं। कैल्शियम और मैग्नीशियम दोनों ही गुर्दे की पथरी के प्रमुख घटक हैं।

क्या पथरी जानलेवा हो सकती है?

यदि गुर्दे में पथरी बनने लगे, तो वे संभावित रूप से जीवन के लिए खतरा हो सकते हैं। यह स्थिति पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम है। जब गुर्दे की थैली लंबे समय तक ठीक से काम करना बंद कर देती है, तो पथरी बन सकती है। गुर्दे की थैली में लंबे समय तक पथरी की मौजूदगी समय के साथ गुर्दे के कैंसर का कारण बन सकती है।

NOTE: कृपया ध्यान दें कि गुर्दे की पथरी एक दर्दनाक और विघटनकारी स्थिति हो सकती है, लेकिन अगर तुरंत प्रबंधन और उपचार किया जाए तो वे आम तौर पर जीवन के लिए खतरा नहीं होती हैं। यदि आपको संदेह है कि आपको गुर्दे की पथरी है या आप गंभीर लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो उचित निदान और उपचार के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

Leave a Comment